You are here
Home > Facts > Top 5 Amazing Facts | गंगा का पानी कभी भी खराब क्यों नहीं होता है?

Top 5 Amazing Facts | गंगा का पानी कभी भी खराब क्यों नहीं होता है?

Top 5 Amazing Facts

Top 5 Amazing Facts – दोस्तो आप DNA की लम्बाई तो जानते ही होंगे अगर नहीं तो ये तो जानते होंगे की दूध में उफान क्यों आता है? या शायद ये तो जानते होंगे की वैज्ञानिक किस महिला को सबसे सुंदर बताया है? अगर नही जानते तो जुड़े चाहिए रहिये हमारे इस आर्टिकल के साथ आज हम इन्हीं सब बातों को बताने वाले है। आइये शुरू करते हैं |


DNA की लंबाई कितनी होती है? Amazing Fact About Human Body

Amazing Fact About Human Bodyआईये थोड़ा मोटा -मोटा समझते हैं। दरअसल अगर आप केवल एक कोशिका यानि Cell में मौजूद DNA को खींच कर सीधा कर सके तो लगभग 6 फुट से ज्यादा बड़ा हो सकता है। यानि एक एवरेज आदमी से ज्यादा लंबा।

लेकिन हम यहां सिर्फ एक DNA की बात कर रहे हैं। हाल ही के शोध की Reports के अनुसार एक व्यस्क के शरीर में औसतन 30 खरब कोशिकाएं होती हैं। यदि आप कोशिकाओं में उपस्थित DNA molecule को सीधा कर सके तो उनकी लंबाई 34 अरब मील तक हो सकती है | (Top 5 Amazing Facts)

लेकिन इस दूरी को हम कैसे समझ सकते हैं?

आपको पता होगा कि सूर्य और धरती के बीच की दूरी लगभग 15 करोड़ किलोमीटर है और अगर DNA को एक लाइन में सीधा लगा दें तो आप 200 बार धरती से सूर्य तक चक्कर लगा सकते हैं। यही नहीं आप 8000 बार धरती के चारों ओर घूम सकते हैं। आप अनुमान लगा सकते हैं कि हम अपने शरीर में इतने लंबे डीएनए के साथ कितनी आसानी से हर काम कर लेते हैं।


गंगा का पानी कभी भी खराब क्यों नहीं होता है?

Amazing Fact About Ganga’s Water

Amazing Fact About Ganga's Waterइतिहासकार लिखते हैं कि अंग्रेज जब कलकत्ता से वापस इंग्लैंड जाते थे तो पीने के लिए जहाज में गंगा का पानी ले जाते थे क्योंकि वो सड़ता नहीं था। इसके विपरीत अंग्रेज जो पानी अपने देश से लाते थे वो रास्ते में ही सड़ जाता था।

दरअसल पानी में गंदगी पैदा करने वाले Bacteria – E. Coli Bacteria है और गंगा के पानी में E. Coli Bacteria को मारने की क्षमता बरकरार है। इसके अलावा दूसरे परीक्षण के लिए तीन तरह का गंगा जल लिया गया। एक ताजा दूसरा 8 साल पुराना और तीसरा 16 साल पुराना।

वैज्ञानिकों ने पाया कि ताजे गंगाजल में Bacteria तीन दिन तक जीवित रहा। 8 साल पुराने पानी में एक हफ्ते और 16 साल पुराने पानी में 15 दिन यानि तीनों तरह के गंगा जल में E. Coli Bacteria जीवित नहीं रह पाया। हालांकि उन्होंने पाया कि गर्म करने से पानी की प्रतिरोधक क्षमता कुछ कम हो जाती है। (Top 5 Amazing Facts)

वैज्ञानिक कहते हैं कि गंगा के पानी में Bacteria को खाने वाले Bacteriophage virus होते हैं। ये वायरस Bacteria की तादाद बढ़ते ही सक्रिय हो जाते हैं और Bacteria को मारने के बाद फिर छिप जाते हैं। (Top 5 Amazing Facts)

इसे भी पढ़े – इन 5 तरीको से Elon Musk जैसे सोंचना सीखो | The Magic Of Thinking Big

वैज्ञानिक बताते हैं कि गंगा जब हिमालय से आती है तो कई तरह की मिट्टी, कई तरह के खनिज, कई तरह की जड़ी बूटियों से मिलती मिलाती है। कुल मिलाकर कुछ ऐसा मिश्रण बनता है जिसे वो अभी तक नहीं समझ पाए। यही नहीं गंगा के पानी में सीधे वातावरण में Oxygen सोखने की अद्भुत क्षमता है।

इसके अलावा दूसरी नदियों के मुकाबले गंगा में सड़ने वाली गंदगी को हजम करने की क्षमता 15 से 20 गुना ज्यादा है। बहुत से Experiment के अनुसार दूसरी नदी जो गंदगी 15 से 20 किलोमीटर में साफ कर पाती है उतनी गंदगी गंगा नदी एक किलोमीटर के बहाव में साफ कर देती है। (Top 5 Amazing Facts)


वैज्ञानिकों के अनुसार दुनिया की सबसे सुंदर महिला…

Amazing Fact About Supermodel Bella Hadid

Amazing Fact About Supermodel Bella Hadidदोस्तों अगर विज्ञान किसी चीज को खूबसूरत कहता है तो उसके पीछे वैज्ञानिक कारण होता है। क्या आप जानते हैं कि Supermodel Bella Hadid को विज्ञान ने सबसे सुंदर महिला घोषित किया है। एक पूरी Research Process के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचा गया कि Bella Hadid का चेहरा ही Perfect Face है।

आपको शायद न पता हो लेकिन बता दें की शारीरिक खूबसूरती को मापने वाला भी एक मानक है जिसका नाम Golden Ratio of Beauty Phi है। इसी के आधार पर 24 साल की Bella Hadid का चेहरा इस मानक से 94.35 प्रतिशत तक मिलता है। (Top 5 Amazing Facts)

दरअसल Bella Hadid की आंखें, नाक, होंठ, ठुड्डी, जबड़े और चेहरे का आकार मापा गया। इन सभी की लंबाई चौड़ाई एक Cosmetic Surgeon ने नई Computerized Mapping Techniques का उपयोग करके निकाले हैं।

अब आप भी जान लीजिए कैसे मापा जाता है Golden Ratio of Beauty Phi को।

इसके माथे के Hairline से आंखों के बीच की जगह पर माप लिया जाता है। आंखों के बीच की जगह से नाक के नीचे तक मापा जाता है और नाक से लेकर ठुड्डी तक की नाप लिए जाते हैं।

इसे भी पढ़े – दुनिया की 10 सबसे प्रसिद्ध पेंटिंग | Top 10 Most Amazing Paintings In The World

अगर इसका नाप एक समान हो तो व्यक्ति को सुंदर माना जाता है यानी चेहरे की समरूपता और अनुपात को तवज्जो दी जाती है। Golden Ratio के अनुसार कान की लंबाई नाक की लंबाई के बराबर होनी चाहिए और आखों की चौड़ाई दोनों आंखों के बीच की दूरी के बराबर होनी चाहिए। (Top 5 Amazing Facts)


दूध में उफान क्यों आता है? Amazing Fact About Milk

वास्तव में दूध में वसा, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन और कई तरह के खनिज होते हैं। दूध में 87 फीसदी पानी 4 फीसदी प्रोटीन 5 फीसदी लैक्टोज होता है जब दूध को गर्म किया जाता है तो उसमें से पानी भाप बनना शुरू कर देता है और दूध में मौजूद वसा यानी Fat और अन्य पदार्थों का गाढ़ापन बढ़ जाता है।

चूंकि यह सभी दूध की तुलना में हल्के होते हैं इसलिए दूध में सबसे ऊपर इकट्ठा हो जाते हैं जो हमें मलाई के रूप में दिखते हैं। (Top 5 Amazing Facts)

इसके बाद दूध में मौजूद पानी के Molecules इस परत के अंदर ही भाप बनते हैं और यही भाप दूध से बाहर निकलने के लिए दूध की सबसे ऊपरी परत पर प्रेशर बनाना शुरू कर देती है और इसी वजह से दूध की ऊपर वाली परत को और भी ऊपर की तरफ उठाना शुरू कर देती है ताकि इन्हे बाहर निकलने का रास्ता मिल सके। 

इसी प्रक्रिया के दौरान एक वक्त ऐसा आता है जब ऊपरी परत बर्तन के ऊपरी भाग से ज्यादा ऊंचाई तक आ जाती है और पानी की भाप को बाहर निकलने का मौका मिल जाता है। दूध में मौजूद पानी की भाप अपने साथ कुछ द्रव्य भी ले आती है और इसी कारण दूध में उफान आता है।

इसे भी पढ़े – 3 दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | Most Mysterious Books In The World

यह ठीक वैसे ही होता है जैसे हम पानी से भाप निकलते देखते हैं।

अब आप कहेंगे कि पानी में ऐसा उफान क्यों नहीं आता?

दरअसल पानी में दूध की तरह कोई परत नहीं बनती। पानी में दूध की तरह कोई प्रोटीन या वसा नहीं होती जो गरम करने पर उसकी ऊपर परत बना दे इसलिए उसमें वाष्प को निगलने में कोई रुकावट नहीं होती। पानी का वाष्पीकरण लगातार होता रहता है इसलिए उसमें उफान नहीं आता। (Top 5 Amazing Facts)


सड़क के बीच झाड़ियां तथा पौधे क्यों लगाए जाते हैं।

बहुत सारे लोग सोचते होंगे कि ये पेड़ और झाड़ियां सड़कों को सुंदर दिखाने के लिए लगाए जाते हैं लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। दरअसल पेड़ों झाड़ियों को डिवाइडर के ऊपर इसलिए लगाया जाता है ताकि रात के समय एक ओर से आने वाले वाहनों की Headlight की रौशनी दूसरी ओर से आने वाले वाहनों पर न पड़े और किसी ओर से वाहन चालकों को कोई समस्या न हो।

कई बार इन पेड़ों और झाड़ियों के न होने की वजह से दूसरी ओर से आ रहे वाहनों की Headlight से आ रही खतरनाक चमक ड्रायवर की आंखों पर बहुत तेज पड़ती है और ड्राइवर वाहन के रास्ते का सही अंदाजा नहीं लगा पाते और खतरनाक सड़क हादसे हो जाते हैं। इसी को देखते हुए पेड़ और झाड़ियां सड़कों के बीच बनेडिवाइडर पर लगाए जाते हैं। (Top 5 Amazing Facts)

Leave a Reply

Top